Connect with us

Tree

बरगद के पेड़ के फायदे

Published

on

बरगद के पेड़ का औषधीय और धार्मिक दोनों ही महत्व हैं। बरगद के पेड़ के कभी भी नष्ट न होने के कारण इसे अक्षय वट भी कहा जाता है। यह भारत का राष्ट्रीय वृक्ष है। इसका वानस्पतिक नाम फाइकस बेंघालेंसिस है। इसे तमाम औषधियों में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा इसके पत्तों से निकलने वाले दूध को भी उपचार में प्रयोग किया जाता है। आज हम आपको इसके कुछ औषधीय गुणों के बारे में बताते हैं।

चोट लगनने पर

बरगद का दूध चोट, मोच और सूजन पर दिन में दो से तीन बार लगाने और मालिश करने से काफी आराम मिलता है। यदि कोई खुली चोट है तो बरगद के पेड़ के दूध में आप हल्दी मिलाकर चोट वाली जगह बांध लें। घाव जल्द भर जाएगा।

पैरों की बिवाई

हाथों की फटी हुई हथेली हो या एडिया (बिवाई), दोनों के ही उपचार में बरगद के पेड़ का दूध काफी कारगर है। ताजे-ताजे दूध को एडियों की फटी हुई दरारों पर भरकर मालिश करते रहने से कुछ ही दिनों में वह ठीक हो जाती हैं। घांव में दूध भरने से पहले एडियों को गर्म पानी से धो लें।

आग से जल जाना

यदि आपके शरीर का कोई हिस्सा जल जाता है तो बरगद का पेड़ उसमें भी राहत देता है। बरगद के पत्ते को पीसकर, उसमें जरूरत के मुताबिक दही मिला लें। अब इस लेप को जले हुए भाग पर लगाने से जलन दूर होती है। जले हुए स्थान पर बरगद की कोपल या कोमल पत्तों को गाय के दही में पीसकर लगाने से भी आराम मिलता है।

बच्चों के दस्त में

यदि बच्चे को पतले दस्त हो रहे हैं तो नाभि में बरगद का दूध लगाने से दस्त में आराम मिलता है। इसके अलावा एक बताशे में दो से तीन बूंद बरगद का दूध डालकर दिन में तीन चार बार रोगी को खिलाने से भी दस्त में आराम मिलता है।

कमर दर्द

कमर दर्द में सिकाई करने के बाद बरगद के दूध की मालिश करने से कुछ ही दिन में आराम मिलने लगता है। ऐसा दिन में कम से कम तीन बार करना होता है। इसके अलावा बरगद का दूध अलसी के तेल में मिलाकर मालिश करने से भी कमर दर्द से छुटकरा मिलता है।

1234754_655349171234343_6202618646921317926_n

ज्यादा पेशाब आना

बरगद के पेड़ की छाल को सुखाकर उसका चूर्ण बना लें। अब इसमें से आधा चम्मच चूर्ण का एक कप गुनगुने पानी के साथ दिन में 3-4 बार सेवन करें। ऐसा लगातार 15 दिन तक करने से बार-बार पेशाब आने के रोग में फायदा होगा। बरगद के फल के बीज को बारीक पीसकर चौथाई चम्मच सुबह के समय गाय के दूध के साथ खाने से भी रोग ठीक हो जाता है।

बाल संबंधी रोग

बरगद के सूखे हुए पत्तों को जलाने पर बनी 20 ग्राम राख को अलसी के 100 मिलीलीटर तेल में मिलाकर मालिश करते रहने से सिर के उड़े हुए बाल उग आते हैं। कोमल पत्तों के रस में बराबर मात्रा में सरसों का तेल मिलाकर आग पर पकाकर गर्म कर लें, इस तेल को बालों में लगाने से बाल मजबूत बनते हैं।

नाक से खून बहना

बरगद की सूखी हुई जड़ को बारीक पीस लें। अब इसमें से आधी चम्मच पाउडर को लस्सी के साथ पीने से नाक से खून बहना बंद हो जाता है। नाक में बरगद के दूध की दो बूंद डालने से भी नकसीर (नाक से खून बहना) ठीक हो जाता है।

नींद अधिक आना

बरगद के कड़े हरे शुष्क पत्तों के 10 ग्राम चूर्ण को एक लीटर पानी में तब तक पकायें, जब तक यह चौथाई न बच जाए। इब इसमें चुटकी भर नमक मिलाकर सुबह-शाम पीने से आलस्य और नींद ज्यादा आने की परेशानी से छुटकारा मिलता है।


Continue Reading

Tree

हरा धनिया के ये चमत्कारिक फायदे जो सेहत के लिए वरदान साबित हो सकते है!

Published

on

By

हर घर में हरा धनिया खाने में इस्तेमाल होता है.

लेकिन यह हरा धनिया खाने में क्यों उपयोग करते हैं यह बहुत कम लोग जानते होंगे. हरा धनिया  सिर्फ खाने का स्वाद  ही नहीं बढाता बल्कि सेहत के लिए लाभदायक भी होता है.

health-benefits-of-coriander-leaves

आइये जानते हैं इसके  चमत्कारिक फायदे

  • धनिया  में  विटामिन ‘ए’ सी, खनिज पदार्थ, पोटोशियम, फास्फोरस, कैल्शियम, कैरोटीन आयरन, थियामीन, फाइबर, और कार्बोहाइड्रेट जैसे पोषक तत्व प्रचुर मात्र में पाये जाते है, जो हर तरह के रोगों से शरीर को बचाते है.
  • इसका एंटी-सेप्ट‍िक गुण  जीभ और  मुंह के  अंदर घाव होने से बचाता है. साथ ही मुहं में घाव  हो गए हो तो उसको सही  करने में मदद भी करता है.
  • शरीर की आंतरिक और बाहरी जलन जैसे – हाथ, पैर, आंखों, यूरिन की जलन, सिरदर्द और पेट की  एसिडिटी को दूर करते है.
  • हरा धनिया हानिकारक  कोलेस्ट्रॉल कम करता है और  फायदेमंद  कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने में सहायक होता है.
  • नकसीर में भी लाभदायक है. नकसीर रोगी इसके रस को जब नाक में डालते है तो नकसीर से मुक्ति  मिलती है.
  • हरा धनिया कफ नाशक है जो कफ को जड़ से ख़त्म करता है. निमोनिया के रोगी के लिए भी फायदेमंद होता है.
  • हरा धनिया लीवर की सक्रियता तीव्र करती करता  है. साथ ही पाचन तंत्र हेतु  बहुत उत्तम रहता  है.
  • इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी तत्व होते है, जो आर्थरायटिस रोगी की सेहत के  लिए भी लाभप्रद है.
  • डायबिटीज रोगी के लिए  फायदेमंद है. यह ब्लड इंसुलिन की मात्रा संतुलित रखता है.
  • किडनी संबंधी रोगों की समस्या को कम करती करता है और किडनी के रोगों से बचाता है.
  • इसमें उपस्थित विटामिन्स ए,सी,  एंटी ऑक्‍सीडेंट व मिनरल, कैंसर के रोग से शरीर की रक्षा करते है.
  • हरा धनिया में उपस्थित फाइटोन्यूट्रिएंट्स रेडिकल डैमेज होने से बचाता है व रेडिकल को सुरक्षित रखता है. इसमें पाए जाने वाले  विटामिन  अल्जाइमर रोगियों के लिए  फायदेमंद है.
  •  नर्वस सिस्टम सक्रिय बनाता है.
  • हरा धनिया की पत्तियों में एंटीसेप्टिक व  एंटीऑक्सीडेंट तत्व त्वचा संबंधी रोग कील, मुहासे, काले धब्बे, झुरियों की परेशानी को जड़ से  ख़त्म करता है.
  • इसकी पत्तियाँ खाने पर पेट की पथरी पिघलकर मूत्र के द्वारा शरीर से बहार निकल जाती है.
  • इसकी पत्तियों में  आयरन पाया जाता है जो एनिमिया से बचाता है.
  • यह धनिया  मासिक धर्म के समय रक्तस्राव की अधिकता व कमर के दर्द से मुक्त करता है.

हरा धनिया की पत्तियाँ शरीर को अनेक रोगों से बचाती है और हर तरीके से रोग मुक्त बनाती है. यह हरा धनिया स्वाथ्य के लिए चमत्कारिक औषधि की तरह है.


Continue Reading

Tree

नारियल वाटर पीने के ये फायदे जानकार आप भी हररोज़ नारियल पानी पीने लगेंगे

Published

on

By

नारियल पानी कम कैलोरी वाला एक ऐसा मीठा प्राकृतिक पेय पदार्थ है जिसे पीने से न सिर्फ ताज़गी का एहसास होता है बल्कि ये सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है.

नारियल पानी में एंटीऑक्सीडेंट्स, अमीनो-एसिड, एंजाइम्स, बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन, विटामिन सी और कई प्रमुख लवण पाए जाते हैं, जिनमें छुपा है स्वास्थ्य का खज़ाना.

कहा जाता है कि नारियल पानी की तासीर ठंडी होती है जो महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए किसी अमृत से कम नहीं है.

यूरिन में जलन की हो परेशानी या त्वचा पर निखार लाना हो या फिर मोटापे पर काबू पाने की बात ही क्यों न हो. नारियल पानी इन तमाम स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का रामबाण ईलाज है.

आइए हम आपको बताते हैं नारियल पानी के फायदे – रोज़ाना नारियल पानी पीना आपकी सेहत के लिए कितना फायदेमंद हो सकता है.

coconut

नारियल पानी के फायदे –

1 – शरीर में नहीं होती है पानी की कमी

रोजाना नारियल पानी पीने से शरीर में कभी पानी की कमी नहीं होती है. इसके साथ ही जरूरी लवणों की मात्रा संतुलित बनी रहती है.

शरीर में पानी की कमी हो जाने पर या फिर शरीर की तरलता कम हो जाने पर, डायरिया हो जाने पर, उल्टी होने पर या दस्त होने पर नारियल पानी पीना फायदेमंद रहता है.

2 – ब्लड प्रेशर करता है नियंत्रित

हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए भी नारियल के पानी का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें मौजूद विटामिन सी, पोटैशियम और मैग्नीशियम ब्लड-प्रेशर को नियंत्रित रखने में सहायक होते हैं. साथ हाइपरटेंशन को भी नियंत्रित करने मदद करता है नारियल पानी.

3 – नारियल पानी रखता है दिल का ख्याल

नारियल पानी कोलेस्ट्रॉल और फैट-फ्री होता है जिसकी वजह ये दिल के लिए काफी अच्छा माना जाता है.  इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट ब्लड सर्कुलेशन पर सकारात्मक प्रभाव डालता है.

4 – हैंगओवर से दिलाता है छुटकारा

ज्यादा शराब पी लेने से होनेवाले हैंगओवर में नारियल पानी औषधि का काम करता है. इसलिए हैंगओवर से छुटकारा पाने के लिए भी नारियल का पानी एक अच्छा उपाय है.

5 – वजन को करता है नियंत्रित

अगर आप वजन घटाने के लिए तरह-तरह के उपाय करके थक गए हैं तो फिर रोज़ाना नारियल पानी पीकर देखिए. कुछ ही दिन में आपको इसका सकारात्मक प्रभाव दिखने लगेगा.

6 – डिहाइड्रेशन से करता है बचाव

अगर आप अक्सर सिरदर्द की शिकायत से परेशान रहते हैं तो इसकी वजह डिहाइड्रेशन भी हो सकती है. ऐसे में नारियल पानी शरीर को तुरंत इलेक्ट्रोलाइट्स पहुंचाने का काम करता है. नारियल पानी आपके बॉडी को डिहाइड्रेशन से बचाने में मदद करता है.

7 – फ्लू से लड़ने में मददगार

वायरल इंफेक्शन से होनेवाले फ्लू और दाद जैसी बीमारियों से लड़ने में नारियल पानी कारगर भूमिका निभाता है.

अगर कोई व्यक्ति इन बीमारियों की चपेट में आ गया है, तो नारियल पानी में मौजूद एंटी-वायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुण इस बीमारी से लडने में मदद करेंगे.

8 – डायबिटीज और कैंसर में लाभदायक

डायबिटीज के मरीज़ों के लिए नारियल पानी काफी लाभदायक होता है. इसमें मौजूद पोषक तत्व, शरीर में शुगर लेवल को नियंत्रित रखते हैं. नारियल पानी कैंसर से भी लड़ने में मदद करता है.

9 – एंटीएजिंग हटाकर त्वचा में निखार लाए

चेहरे से झुर्रियों और मुहांसों के दाग मिटाने में भी नारियल पानी काफी मददगार होता है. नारियल पानी में मौजूद साइटोकिन्स, एंटी ऐजिंग, एंटी कासीनजन और एंटी थौंबौटिक्स से लडने में काफी फायदेमंद साबित हुए हैं.

त्वचा के दाग, धब्बों और झुर्रियों को मिटाने के लिए हर रात करीब दो तीन हफ्तो तक चेहरे पर नारियल पानी लगाने से त्वचा साफ होती है और उसमें निखार आता है.

10 – पाचन शक्ति को बनाता है मज़बूत

नारियल पानी में फॉस्फेट, कटालेस, डिहाइड्रोजनेज, डायस्टेज, पेरोक्सजेस, आरएनए पोलिमेरासेस जैसे तत्व पाए जाते हैं जो शरीर की पाचन शक्ति को सुधारकर उसे मज़बूत बनाने में सहायक होते हैं. नारियल पानी शरीर में ज़रूरी विटामिन्स की कमी को भी दूर करता है.

ये है नारियल पानी के फायदे – नारियल पानी के फायदे जिनके बारे में जानकर आप समझ ही गए होंगे कि नारियल पानी पीना स्वास्थ्य के लिए कितना फाययेदमंद है.

इसमें ऐसे औषधिय गुण छुपे हैं जो डॉक्टर की दवाईयों में भी नहीं मिलेंगे.

नारियल वाटर पीने के ये फायदे जानकार आप भी हररोज़ नारियल पानी पीने लगेंगे 


Continue Reading

Tree

जानें, आम की पत्‍तियों के गुण… इसके आगे फेल हैं बाकी दवाइयां

Published

on

गर्मियों में सबसे ज्‍यादा मिलने वाला और खाया जाने वाला फल आम, स्‍वाद में बेहद स्‍वादिष्‍ट होता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि आम की पत्‍तियां भी कोई कम गुणकारी नहीं होतीं।

READ: किडनी की बीमारी के 10 संकेत, इन्हें न करें इग्नोर

आम की पत्‍तियों में थेराप्‍यूटिक और अन्‍य मेडिकल प्रॉपर्टी होती हैं। इसके अलावा इसमें अच्‍छी खासी मात्रा में विटामिन सी, बी और ए भी पाया जाता है।

जब आप की पत्‍तियां ताजी, छोटी और लाल तथा बैंगनी रंग लिये हुए होती हैं, तभी उन्‍हें तोड़ कर प्रयोग किया जा सकता है। बड़ी और पुरानी होने पर यह अपना असर नहीं दिखा पाती।

READ: अगर आपकी स्किन ऑयली हैं तो इन 5 फूड्स से करें परहेज़!

आम की पत्‍तियां एक ऐसा खज़ाना हैं, जो आपको फ्री में ही मिल जाएगा इसलिये इसे अच्‍छी ढंग से प्रयोग करें। आम की पत्‍तियां साल भर मौजूद रहती हैं इसलिये आपको बीमारी दूर करने के लिये किसी खास मौसम का इंतजार करने की जरुरत नहीं है।

इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटीमाइक्रोबियल प्रॉपर्टी होने के नाते यह लगभग हर बीमारी का खात्‍मा कर सकती है।

 

 
१. दमा से बचाए: यह सांस की बीमारी को भी कंट्रोल करती है। यह चाइनीज़ मेडिसिन में काफी ज्‍यादा प्रयोग की जाती हैं। आप आम की पत्‍तियों को पानी में उबाल कर बनाया गया काढा पियें। इसमें थोड़ी सी शहद भी मिक्‍स कर सकते हैं।
२. ब्‍लड़ प्रेशर लो करने में मददगार: इसमें हाइपोटेंसिव प्रॉपर्टी होती है जिसके चलते यह ब्‍लड प्रेशर को लो करने में सहायक होती है। यह खून की नाडियों को मजबूती देती है और खून के थक्‍कों को जमने से रोकती भी है।
३. गॉल ब्‍लैडर और किडनी स्‍टोन से बचाए: रोजाना आम की पत्‍तियों के पावडर से बना घोल पीने से किडनी के स्‍टोन दूर करने में मदद मिलती है। आम की पत्‍तियों को छाया में सुखा कर पावडर बनाना चाहिये।
४. पेचिश का इलाज: यह खून आने वाली पेचिश का भी इलाज करती है। आम की पत्‍तियों को सुखा कर पावडर बनाएं और फिर इसे दिन में दो बार पानी के साथ खाएं। इससे आराम मिलेगा।

 READ: चाहते हैं किडनी रोग से छुटकारा, तो बीपी-ब्लड शुगर को रखें कंट्रोल

५. कानों का दर्द दूर भगाए: आम की पत्‍तियों का जूस निकाल कर कानों में डालिये, इससे दर्द बंद हो जाएगा। जूस को प्रयोग करने से पहले हल्‍का गरम करना ना भूलें।
६. हिचकी और गले की समस्‍या से राहत: अगर आपको हिचकी आ रही है या गले में कोई परेशानी है तो थोड़ी सी मुलायम आम की पत्‍तियों को जला लें और फिर उसका धुंआ सांस के दृारा अंदर खींचे।
७. पेट के लिये रामबाण: थोड़ी सी आम की पत्‍तियों को गरम पानी में डालें, बर्तन को ढंक दें और रातभर के लिये इसे ऐसे ही छोड़ दें। दूसरे दिन पानी को छान कर खाली पेट पी जाएं। इसे नियमित पीने से पेट की सारी गंदगी बाहर निकल जाती है और पेट का कोई रोग नहीं होता।
८. जानें, कैसे करें प्रयोग: आप चाहें तो छोटी, नाजुक पत्‍तियों को तोड़ कर मुंह में डाल कर चबा भी सकते हैं। अगर इसका पेय बनाना हो तो पत्‍तियों को तोड़ कर हल्‍के गुनगुने पानी में डाल कर बर्तन को ढंक दें और सुबह पानी छान कर पी जाएं। अगर इसका पावडर बनाना हो, तो नाजुक पत्‍तियों को तोड़ कर धो कर छाया में सुखा लें और फिर सूखने के बाद इसका पावडर बना कर सेवन करें।
९. मधुमेह से बचाए: आम की नाजुक और ताजा पत्‍तियों की मदद से आप मधुमेह को भी कंट्रोल कर सकते हैं। यह ब्‍लड शुगर को कंट्रोल कर के आपके हेल्‍थ को ठीक रखती है। इसमें मौजूद हाइपोग्‍लाइसेमिक प्रभाव से ब्‍लड शुगर लो हो जाता है।

Continue Reading

Trending