बच्चे को जन्म देने के बाद माँ ज़रूर खाएं ये 7 चीज़ें

6322

डिलीवरी के बाद नई माओं को स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कब्ज़, कमज़ोरी, शरीर में दर्द आदि ऐसी ही समस्याएं हैं जो महिलाओं को इस वक्त सबसे ज़्यादा परेशान करती हैं। इन सबसे निपटने और सेहत को बेहतर बनाने के लिए आप सदियों से खाई जाने वाली इन चीज़ों को ट्राई कर सकती हैं।

pregnent

  • खजूर के लड्डू – खजूर में फाइबर काफी अधिक मात्रा में होता है, जो कब्ज़ को दूर करता है। इसके अलावा, डिलीवरी के बाद एनिमिया से बचने के लिए आयरन की बहुत ज़रूरत होती है, जो खजूर में मौजूद होता है। इसे खाने से थकान और कमज़ोरी भी कम महसूस होती है।
  • सौंफ का पानी – सौंफ पाचन से जुड़ी समस्याओं में काफी प्रभावी होता है। ये समस्या प्रसव के बाद काफी बढ़ जाती है। इसलिए मशहूर शेफ अंजूम आनंद ऐसे वक्त में सौंफ का पानी पीने की सलाह देती हैं।

  • गोंद के लड्डू – खाने वाली गोंद के लड्डू में गोंद के साथ मूंग दाल का आटा, सोयाबीन का आटा और ड्राई फ्रूट्स भी डाला जाता है। ये सभी नई मां के शरीर को प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व देते हैं, जिनसे कि वो जल्दी ठीक हो सकती है।
  • मेथी हलवा – मेथी में गलेक्टोगॉग्स (galactogogues) होते हैं जिनसे स्तनपान के लिए दूध को बढ़ावा मिलता है। इस हलवे के लिए भिगाकर रखी मेथी को कुकर में उबालें। फिर एक पैन में डालें। साथ में 1 कप गुड़ और नारियल का दूध मिलाएं। उन्हें भूने। फिर एक कप घी मिलाएं. हलवा तैयार होने पर स्तनपान के लिए तैयार हो रही मां हर रोज़ खाए।
  • अजवायन का पानी या परांठा – गेंहू से बना ये परांठा फाइबर का इच्छा स्रोत होता है। इसमें जब अजवायन मिलाई जाती है तो ये यूट्रस की सफाई करने के साथ-साथ स्तनों में दूध का निर्माण भी बढ़ाता है। साथ ही, इससे पाचन क्रिया ठीक बनी रहती है।
  • पंजीरी – डिलीवरी के बाद महिलाओं को खिलाई जाने वाली चीज़ों में ये सबसे मशहूर है। ये पोषक तत्वों का पावर हाउस भी कह सकते हैं। इसमें आटा, ङी, सौंफ, गोंद, ड्राई फ्रूट्स, गुड़ और कुछ और चीज़ें डाली जाती हैं। ये इस स्थिति में महिलाओं को ऊर्जा देती है।
  • अदरकी-कैंडी – अदरक पाचन क्रिया को बेहतर करता है। ये कैंडी अदरक की जड़, खोया या मिल्क पाऊडर और घी को मिलाकर बनाई जाती है, इससे शरीर का ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है जिससे ऐनर्जी महसूस होती है। अदरक की मदद से स्तनपान करने वाले बच्चे का पेट दर्द भी नहीं होता।

SHARE