एसिडिटी से बचाव के लिए घरेलू नुस्ख़े

1583

एसिडिटी से बचाव के लिए घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies For Acidity)

पेट में पाचन रस की ज्यादा या कम मात्रा निकलने पर एसिडिटी की परेशानी होती है। एसिडिटी होने पर पेट में दर्द (Stomach Pain), गैस (Gas), मुंह से बदबू (Mouth Odour) और जी मिचलाने (Nausea) जैसी समस्याएं हो सकती हैं। जो लोग अक्सर एसिडिटी से परेशान रहते हैं उनके लिए समस्या गंभीर हो सकती है। एसिडिटी मसालेदार खाना खाने, अनियमित खाने (Irregular Eating) की आदतें या बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेने से भी होती है।

इतना ही नहीं ज्यादा शराब पीने और चाय-कॉफी पीने वालों को भी एसिडिटी की दिक्कत होती है। आइए आपको बताते हैं कि कौन से घरेलू नुस्खे अपनाकर आप आसानी से एसिडिटी से राहत पा सकते हैं।

 

एसिडिटी से बचाव के लिए घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies for Acidity)

तुलसी के पत्ते (Basil Leaves)
तुलसी के पत्ते आपको तुरंत एसिडिटी, गैस और उल्टी से राहत दे सकते हैं। उपचार के लिए कुछ तुलसी के पत्ते चबा कर खाएं। इसके अलावा तुलसी के कुछ पत्ते पानी में उबालकर, उस पानी को छान लें। गुनगुना रहने पर शहद मिलाकर पिएं। यह भी एसिडिटी के लिए अच्छा उपाय है।

दालचीनी (Cinnamon)
दालचीनी एक प्राकृतिक एंटासिड (Antacid) है जो पाचन शक्ति के लिए बेहद अच्छी है और गैस को दूर रखती है। उपचार के लिए एक कप पानी में आधा चम्मच दालीचीनी पाउडर डालकर उबालें। इस पानी को एक दिन में दो से तीन बार पिएं। इसके अलावा सूप या सलाद में भी दालचीनी पाउडर डालकर खाया जा सकता है।

oldveda-logo-272

छाछ (Buttermilk)
छाछ पीने से भी एसिडिटी में बहुत राहत मिलती है। छाछ में पेट की अम्लता को संतुलित करने के लिए लैक्टिक एसिड होता है। उपचार के लिए मेथी के दानों को पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को एक गिलास छाछ में मिलाकर पिएं। इससे पेट का दर्द भी ठीक होगा और गैस से भी राहत मिलेगी। साथ ही, एसिडिटी भी खत्म होगी। स्वाद बढ़ाने और बेहतर परिणाम के लिए इस छाछ में काला नमक और काली मिर्च भी मिलाई जा सकती है।

सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)
सेब का सिरका भी एसिडिटी को ठीक करने का आसान तरीका है। उपचार के लिए एक कप पानी में दो चम्मच कच्चा सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बार पिएं। खाना खाने से पहले भी इसे पिया जा सकता है।

लौंग (Cloves)
लौंग खाने से पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जिससे पेट की अम्लता कम होती है और एसिडिटी से राहत मिलती है। राहत के लिए खाने के बाद दो से तीन लौंग को मुंह में रखकर हल्का हल्का चबाकर चूसें।

जीरा (Cumin)
जीरा भी एक बेहतरीन एसिड न्यूट्रालाइजर (Acid Neutralizer) है जो एसिडिटी को कम करता है। इसके साथ ही पाचन शक्ति को बढ़ाकर पेट दर्द से भी राहत देता है। उपचार के लिए जीरा को भूनकर उसका पाउडर बनाएं। इस पाउडर को खाना खाने के बाद एक गिलास पानी में मिलाकर पिएं। जीरा पाउडर को छाछ में मिलाकर भी पिया जा सकता है।

अदरक (Ginger)
अदरक में पेट की अम्लता से लड़ने के गुण होते हैं जो एसिडिटी से राहत देते हैं। उपचार के लिए खाने के बाद अदरक का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखकर चबाएं। या फिर एक कप पानी में अदरक को कुचलकर डालें और उबालें। इस पानी को छनकर पिएं।

गुड़ (Jaggery)
गुड़ में पाचन के लिए बेहद अच्छी खाद्य सामग्री है साथ ही गुड़ खाने से पेट की अम्लता भी कम होती है जिससे एसिडिटी से राहत मिलती है। उपचार के लिए हर रोज खाने के बाद एक टुकड़ा गुड़ का खाएं। हालांकि यह उपाय शुगर रोगियों के लिए ठीक नहीं है।

ठंडा दूध (Cold Milk)
दूध पेट में एसिड के निर्माण को रोकता है साथ ही गैस्ट्रिक एसिड को स्थिर करके एसिडिटी की समस्या होने से बचाता है। हालांकि एसिडिटी की समस्या होने पर सिर्फ ठंडा दूध ही पीना चाहिए। गरम दूध उतना लाभकारी नहीं होता।

सौंफ (Fennel)
सौंफ खाने को पचाने में सहायता करती है और गैस को दूर रखती है। हर रोज खाना खाने के बाद सौंफ को मुंह में रखकर चबाएं। सौंफ के साथ मिश्री भी मिलाई जा सकती है। ऐसा करने से एसिडिटी से राहत मिलती है।


SHARE