Connect with us

Health A-Z

डायरिया से बचाव के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies For Diarrhea)

Published

on

जब व्यक्ति की पाचन क्रिया (Digestive System) सुचारू रूप से कार्य करना बंद कर देती है, तब उसे उल्टी और पतले दस्त होने लगते हैं। यही स्थिति डायरिया कहलाती है। डायरिया, बैक्टीरियल तथा वायरल इंफेक्शन (Bacterial and Viral Infection) के कारण होता है, जो दूषित भोजन या खाने के द्वारा व्यक्ति के शरीर में पहुंच कर, पाचन क्रिया को प्रभावित करते हैं।

डायरिया कै दौरान व्यक्ति के पेट में दर्द होता है, पेट में ऐंठन, जी मिचलाना आदि समस्याएं भी हो सकती हैं। डायरिया के दौरान व्यक्ति को डी-हाइड्रेशन (Dehydration) हो सकता है, जिससे स्थिति और भी बिगड़ सकती है। डायरिया के लक्षण व्यक्ति में दो से चार दिन में उभरते हैं।

 

जानिए डायरिया से बचाव के लिए कुछ घरेलू उपचार (Home Remedies of Diarrhea)

नीचे दिये गए उपचारों के द्वारा डायरिया बीमारी में राहत पाई जा सकती है:

1. दही (Yogurt)- दही में मौजूद बैक्टीरिया, शरीर में मौजूद विषैले बैक्टीरिया का नाश कर, डायरिया से बचाते हैं। डायरिया के उपचार के लिए दो कटोरी दही खाने से ही बेहद आराम मिलता है। सादे चावल में दही मिलाकर भी खाई जा सकती है।

2. अदरक (Ginger)- अदरक का प्रयोग फूड पॉइजनिंग (food poisoning) होने पर भी किया जाता है, ऐसे में डायरिया से राहत देने में भी अदरक काफी प्रभावशाली है। अदरक के प्रयोग से पेट की ऐंठन (stomach cramps) और दर्द से भी राहत मिलती है। उपचार के लिए अदरक को कद्दूकस करके, उसमें शहद (honey) मिलाकर खाएं। इसके तुंरत बाद पानी न पीएं। अदरक की चाय (बिना दूध की) भी काफी आराम देती है।

3. मेथी दाना (Methidana)- डायरिया के इलाज के लिए मेथी दाना बेहद फायदेमंद बताया गया है। एक छोटी चम्मच मेथी दाना को चबाकर, एक बड़ी चम्मच दही खाने से डायरिया से निजात मिलती है। इसके अलावा एक चम्मच मेथी दाना और जीरा (cumin) को भून कर पाउडर बना लें और दो बड़ी चम्मच दही में मिलाकर खाएं। इस मिश्रण को दिन भर में तीन बार खाने से बेहद आराम मिलता है।oldveda-logo-272

4. सेब का सिरका (Apple cider vinegar)- सेब का सिरका भी डायरिया में बेहद फायदेमंद है। सेब के सिरके का एसिडिक गुण, डायरिया के बैक्टीरिया को खत्म कर देता है। उपचार के लिए एक गिलास पानी में एक चम्मच सिरका मिलाएं और पी लें। इस मिश्रण को एक दिन में दो से तीन बार तब तक पीएं जब तक डायरिया ठीक न हो जाए।

5. केला (Banana)- केले में काफी मात्रा में पैक्टिन तत्व (pectin content) और पौटेशियम होता है, इसलिए डायरिया में केला खाने की सलाह दी जाती है। डायरिया होने पर दो से तीन पके हुए केला रोज खाएं।

6. कैमोमाइल चाय (Chamomile tea)- कैमोमाइल डायरिया के उपचार में बेहद फायदेमंद है। डायरिया के उपचार के लिए कैमोमाइल की चाय बनाकर पीएं।

7. सफेद चावल (White rice)- सादा, सफेद गीले चावल भी डायरिया के दौरान खाने की सलाह दी जाती है। इस तरह के चावल सुपाच्य होते हैं। इस तरह के चावल खाने से दस्त कम आते हैं। सादा चावल को थोड़ा गीला करके खाएं। स्वाद के लिए चावल में दही मिलाकर खा सकते हैं।

8. गाजर का सूप (Carrot soup)- गाजर का सूप भी डायरिया में बेहद फायदेमंद है। डायरिया के दौरान शरीर में हुई पोषक तत्वों (nutrients) की कमी को पूरा करने के साथ ही गाजर का सूप इम्यूनिटी (immunity) को मजबूत करता है। सूप बनाने के लिए, गाजर को काट कर उबाल लें और जब गाजर उबलकर पानी में घुल जाए तब, पानी को छान कर अलग करा लें। इसमें स्वादानुसार नमक, भुना जीरा और कालीमिर्च पाउडर मिलाएं।


Continue Reading

Body Care

इन अासान तरीकोें से करें बवासीर को दूर

Published

on

By

बवासीर की बीमारी एक एेसा असहनीय दर्द है जो दो तरह का होता है अंदरूनी अौर बाहरी। अंदरूनी में नसों की सूजन नहीं दिखती लेकिन महसूस होती है अौर दूसरा बाहरी बवासीर में सूजन बाहर दिखती है। इस बीमारी का पता बड़ी ही अासानी से लग जाता है जैसे मलाशय में दर्द या जलन होना फिर इसके बाद रक्तस्राव, खुजली होना। इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए हम पता नहीं कितनी दवाईयों का सेवन करते लेकिन इनका ज्यादा कोई असर नहीं होता। अाप कुछ घरेलू तरीके अपनाकर भी इस इस समस्या से छुटकारा पा सकते है। आइए जानते है ये तरीके…
oldveda-old-veda-logo-banner-health-lifestyle-ayurveda1
 
1. फाइबर युक्त आहार
अगर अाप अपने पाचन को सही रखना चाहते है तो फाइबर युक्त अाहार का सेवन करें। खाने में साबुत अनाज, ताजे फल और हरी सब्जियों को अधिक शामिल करें।
2. छाछ
छाछ काफी हद तक बवासीर में फायदेमंद होता है। 2 लीटर छाछ में 50 ग्राम पिसा हुआ जीरा और स्‍वादानुसार नमक मिला लें और प्यास लगने पर इसी का सेवन करें।
3. दही 
रोजाना दही का सेवन करने से बवासीर होने की संभावना कम होती है अौर शरीर को फायदा मिलता है।
4. जीरा
जीरे को भूनकर मिश्री के साथ मिलाकर चूसने से फायदा मिलता है या आधा चम्‍मच जीरा पाऊडर एक गिलास पानी के साथ मिक्स करके पीएं।
5. अंजीर
सूखे अंजीर को लेकर रात भर के लिए गर्म पानी में भिगो दें और सुबह खाली पेट लें।  इसको खाने से फायदा होता है।
6. तिल
बवासीर को रोकने के लिए 10-12 ग्राम धुले हुए काले तिल को एक ग्राम मक्खन के साथ मिलाकर लेने से जल्द अाराम मिलता है।

Continue Reading

Dengue

इस तरह डेंगू से करें खुद का बचाव

Published

on

By

मच्छरों से फैलने वाले रोग डेंगू, मलेरिया होना अाम है लेकिन अाजकल डेंगू का रोग काफी वायरल हो रहा है। यह संक्रमित बीमारी मच्छरों के काटने से होती है जिसके बाद बुखार अाने लगते है। एेसे में हम कुछ सावधानियां बरत कर इस रोग से बच सकते है।  अाज हम अापको डेंगू के लक्षण,कारण अौर उपचार के बारे में बताएंगे जिनको फॉलो कर अाप अपने अाप को इस रोग से बचा सकते है।
oldveda-old-veda-logo-banner-health-lifestyle-ayurveda1
डेंगू के लक्षण
– शरीर के हिस्सों पर लाल रंग के निशान
– सिरदर्द
– तेज बुखार
– उल्टी अौर दस्त
– शरीर में दर्द
– कई बार नाक से खून निकलना
यह सब लक्षण मच्छर के काटने के 7-8 दिन बाद दिखाई देते है। कई बार यह काफी सामान्य लक्षण होते है जिसको हम नॉर्मल फ्लू समझते है। इन लक्षणों के होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।
डेंगू होने के कारण 
– घरों के अास-पास जमा हुअा पानी
– संक्रमित पानी अौर खाना
डेंगू के उपचार के लिए कुछ जरूरी बातों का रखें ध्यान 
– इससे बचने के लिए अाराम करों अौर लिक्विड लेना चाहिए।
– अपने घर के अास-पास सफाई रखें।
– किसी भी जगह पर पानी खड़ा ना होने दें।
– मच्छरों का खात्मा करने के लिए दवाई छिड़के।
– पीने के पानी को हमेसा किसी चीज से ढक कर रखें।
– खून की कमी को पूरा करने वाले अाहार का सेवन करें।
डेंगू का रामबाण इलाज 
1. गिलोय
गिलोय बॉडी को इंफेक्शन से बचाने में मदद करत है। इसके तने को उबालकर हर्बल ड्रिंक की तरह पीने से डेंगू से छुटकारा मिलता है।
2. पपीते के पत्ते
पपीते के पत्तों का जूस बनाकर कर पीने से डेंगू अौर बॉडी से टॉक्सिन बाहर निकालने में मदद करते हैं।
3. मेथी के पत्ते
यह पत्तियां डेंगू के बुखार को कम करने के लिए सहायक हैं। मेथी की पत्तियों को पानी में मिलाकर उसका जूस पीएं। इसके अलावा, मेथी पाऊडर को भी पानी में मिलाकर पी सकते हैं।
4. गोल्डनसील
इस हर्ब का इस्तेमाल दवाई बनाने के लिए किया जाता है। इस हर्ब में डेंगू बुखार को बहुत तेजी से खत्म कर शरीर में से डेंगू के वायरस को खत्म करने की क्षमता होती है। इसका चूर्ण या जूस पीकर लाभ उठाया जा सकता है।
5. हल्दी
डेंगू बुखार होने पर हल्दी को दूध में मिलाकर पीने से अाराम मिलता है।

Continue Reading

Body Care

चिकनगुनिया को रखें खुद से दूर, जानिए कैसे ?

Published

on

By

मौसम बदलने के साथ साथ बहुत सारे वायरल रोग भी फैलते हैं। इन दिनों वायरल फीवर, खांसी-जुकाम की परेशानी आम सुनने को मिल रही हैं।  सबसे पहले तो बाहर के खाने से परहेज करें और साफ सुथरा स्वस्थ भोजन खाएं। इन दिनों चिकनगुनिया भी काफी तेजी से फैल रहा है। यह रोग ऐसे हैं जो संक्रमण और साफ सफाई ना होने की वजह से फैलते हैं। दिल्ली में तो चिकनगुनिया ने हड़कंप मचा रखा है।

चिकनगुनिया मच्छर के काटने से ही होता है जिससे रोगी बुखार खांसी, जुकाम से ग्रस्ति हो जाता है। इस रोग की गंभीर बात यह है कि इस रोग से बचने के लिए कोई टीका नहीं है। आमतौर पर चिकनगुनिया का मच्छर दिन में काटता है इसलिए दिन में भी मच्छर कॉयल जलाकर रखें।

चिकनगुनिया को रखें खुद से दूर, जानिए कैसे ?

चिकनगुनिया को रखें खुद से दूर, जानिए कैसे ?

लक्षण
– जोड़ों में दर्द
-100 डिग्री के आस-पास बुखार।
– शरीर पर लाल रंग के रैशेज बन जाते हैं।
– भूख नहीं लगती और थकान
– सिर में दर्द और खांसी-जुकाम

बचाव
– आस-पास साफ-सफाई का ध्यान रखें।
– मच्छरदानी का प्रयोग करें।
– खुद ही डॉक्टर बन दवाई ना खाएं। चेकअप जरूर करवाएं।
– खूब पानी पीजिए।
– बाहर का खाना ना खाएं
– खिड़की-दरवाजों को बंद रखें ताकि मच्छर घर में प्रवेश ना कर पाएं।
– पूरे ढके कपड़े पहनें।


Continue Reading

Trending