Connect with us

Uncategorized

आँखों की रौशनी तेज करने के उपाय

Published

on

आँखों की रौशनी तेज करने के उपाय

ईश्वर की बनायी गयी इस दुनिया को दखने का माध्यम केवल हमारी ऑंखें ही है और इनको उम्र के पड़ाव के साथ देखभाल की भी नितांत आवयकता होती है क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ हमारी आँखों के चारो तरफ क मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती है और हमारी आँखें कमजोर हो जाती है। आंखों की रौशनी हमारे आहार और जीवनशैली पर भी निर्भर करती है।
हम यहाँ पर आपको आँखों की देखभाल और उसकी रौशनी बढ़ाने के कुछ आसान से उपाय बता रहे है ।

1. सुबह उठकर मुहँ में पानी भरकर आँखें खोलकर साफ पानी के छीटें आँखों में मारने चाहिए इससे आँखों की रौशनी बढ़ती है ।

2. प्रातः खाली पेट आधा चम्मच ताजा मक्खन, आधा चम्मच पसी हुई मिश्री और 5 पिसी काली मिर्च मलाकर चाट लें, इसके बाद कच्चे नारीयल की गिरी के 2-3 टुकड़े खूब चबा-चबाकर खाये और ऊपर से थोड़ी सौंफ चबाकर खा लें फिर दो घंटे तक कुछ भी न खाये। यह क्रिया 2-3 माह तक जरूर करिये ।

3. बालों पर रंग, हेयर डाई और केमीकल शैम्पू लगाने से परहेज करें ।

4. रात को 1 चम्मच त्रिफला मिट्टी के बर्तन में भिगाकर सुबह छाने हुए पानी से आँखें धोयें। इससे आँखों की रोशनी बढ़ती है और कोई बीमारी भी नहीं होती है।

5. प्रातःकाल सूर्योदय से पहले नियमित रूप से हरी घास पर 15-20 मिनट तक नंगे पैर टहलना चाहए। घास पर ओस की नमी रहती है नंगे पैर इस पर टहलने से आँख को तनाव से राहत मिलती है।और रौशनी भी बढ़ती है ।

6. पैरों के तलवे की सरसों के तेल से नियमित मालिश करनी चाहिए । नहाने से 10 मिनट पूर्व पैरों के अंगूठों को सरसों के तेल से तर करने से आँखों की रौशनी लम्बे समय तक कायम रहती है ।

7. पालक, पत्ता गोभी, हरी सब्जियाँ और पीले फल खाएं। विटामिन ए, सी और ई से भरपूर कई पीले फल हमारी आंखों के लिए फायदेमंद हैं। इसके अतिरिक्त पपीता, संतरा, नींबू आदि के सेवन से दिन की रोशनी में हमारे देखने की क्षमता बढ़ती हैं।

8. आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए प्रतिदिन 1-2 गाजर खूब चबा-चबाकर खाएँ ।गाजर का रस निकालकर भोजन के घंटे भर बाद पिएँ।

9. नियमित रूप से अंगूर खाएं, अंगूर के सेवन से रात में देखने की क्षमता बढ़ती है।

10. 2 अखरोट और 3 हरड की गुठली को जलाकर उनकी भस्म के साथ 4 काली मिर्च को पीसकर उसका अंजन करने से आँखों की रौशनी बढती हे।

oldveda-logo-hindi-ayurved-lifestyle-website11
11. 10 ग्राम छोटी हरी इलाइची , 20 ग्राम सौंफ के मिश्रण को महीन पीस लें। एक चम्मच चूर्ण को दूध के साथ नियमित रूप से पीने से आंखों की ज्योति अवश्य ही बढ़ती है।

12. अनार के 5 से 6 पत्ते को पीस कर दिन में 2 बार लेप करने से दुखती आँख में लाभ होता हे और रौशनी भी बढ़ती है ।

13. 300 ग्राम सौंफ को अच्छे से साफ करके कांच के बर्तन में रख ले अब बदाम और गाजर के रस से सौंफ को तीन बार भगोएँ जब सुख जाए तो इसे रोज रात दूध के साथ लें इससे भी आँखों की रोशनी बढ़ती है ।

14. सूखें आँवले को रात में पानी में अच्छी तरह धोकर भिगो दें फिर दिन में 3 बार इसे रुई से आँखों में डालें और आँवले का ज्यादा ज्यादा किसी ना किसी रूप में अपने खाने / पीने में अवश्य ही प्रयोग करें। 3 माह के अंदर ही चश्मा उतर जायेगा ।

15. प्रतिदिन भोजन के साथ 50 से 100 ग्राम मात्रा में पत्तागोभी के पत्तों का सलाद बारीक कतर कर, इन पर पिसा हुआ सेंधा नमक और काली मिर्च डालकर खूब चबा-चबाकर खाएँ।

16. आंखों की स्वस्थ्यता के लिए अच्छी नींद जरूरी है, नहीं तो आंखों के नीचे काला घेरा पड़ जाता है और रोशनी भी कम होती है।

17. जब आँख भारी होने लगे नींद का समय हो जाए तब जागना उचित नहीं। सूर्योदय के बाद सोये रहने, दिन में सोने और रात में देर तक जागने से आँख पर बुरा प्रभाव पड़ता है और धीरे-धीरे आँखे रुखी और बेजान होने लगती है

18. लगातार, बिस्तर पर लेट कर और यात्रा के दौरान पढ़ना नहीं चाहिए। पढ़ाई के समय आंखों को पर्याप्त विश्राम दें। अतिरिक्त सूर्य की और भी टकटकी लगाकर नहीं देखना चाहिए।

19. आंखों की रोशनी तेज करने के लिए अपनी डाइट में प्याज और लहसुन को जरूर शामिल करें। इनमें सल्फर होता है जो आंखों के लिए ग्लूटाथाइन नामक एंटीऑक्सीडेंट तैयार करता है, जिससे नेत्रों की ज्योति बढ़ती है ।

20. सोया व इसके उत्पाद में फैट्स बहुत कम व प्रोटीन बहुत अच्छी मात्रा में होता है। इसमें जरूरी फैटी एसिड, विटामिन ई व कई जरूरी तत्व होते हैं जो आंखों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। * बालों पर रंग, हेयर डाई और केमीकल वाले शैम्पू नहीं लगाना चाहिए इसका भी बुरा असर हमारी आँखों पर पड़ता है ।

21. लगातार टीवी देखने से आंखों की ज्योति घटती है क्योंकि टीवी से निकलने वाली घातक किरणे हमारी आँखों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुँचती है। कभी भी बहुत पास या बहुत दूर और लेटकर भी टीवी नहीं देखना चाहिए


Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uncategorized

वजन कम करना चाहते है, तो ये है सबसे आसान उपाय

Published

on

आज के समय में हर दूसरा व्यक्ति मोटापे से परेशान है। जिसके कम करने के लिए न जाने क्या-क्या करते है। घंटो में जिम में समय बीताना, डाइटिंग करना, जंक फूड से दूरी बनाना। कई लोग के साथ होता है कि वह अपना वजन तो कम करना चाहते है, लेकिन अपने अनियमित खान-पान के कराण इसे छोड़ नहीं पाते है। जिसके कारण वह अधिक एक्सरसाइज करने के बाद भी अपना वजन नहीं कम कर पाते है।

kantola-for-wieght-lose

ये भी पढ़े-

अगर आप भी मोटापा से बहुत ज्यादा परेशान है, लेकिन आपको जंक फूड छोड़ने और जिम जाने के बाद भी वजन कम नहीं हो रहा है तो इसके लिए जरुरी नहीं कि आप अपना खान-पान ही सही रखें बल्कि इसे सही समय में खाना बहुत ही जरुरी है। एक शोध में यह बात सामने आई कि अगर आप समयानुसार भोजन करते है तो आपको वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ मर्सिया के स्पेनिश डॉक्टरों ने एक अध्ययन कि जिसके अनुसार सही समय पर खाने से प्रभावी रूप से वजन घटाने में मदद वजन कम करने में प्रोटीन और और फाइबर से भरपूर डायट का अहम रोल होता है। लेकिन क्या आपको पता है कि मेटाबोलिज्म बढ़ाने के लिए आपके लंच के समय का भी बहुत बड़ा रोल होता है?

शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में 420 लोगों को शामिल किया। इन्हें 20 हफ्ते के लिए वजन कम करने के प्लान में शामिल किया और इन लोगों को 2 ग्रुप पहला-देरी से खाने वाले और दूसरा जल्दी खाने वाले। 20 हफ्ते बाद देखा गया कि जल्दी खाने वाले लोगों में न केवल वजन कम करने में कमी देखी गयी बल्कि वजन कम करने की दर में भी कमी देखी गयी थी। दूसरी ओर जल्दी खाने वाले लोगों को जल्दी से वजन कम करने में मदद मिली थी।

indian-dinner-625x350-81434-1461378108

शोधकर्ताओं ने ये भी पाया कि देरी से खाने वाले लोगों यानी कि शाम और रात को जल्दी खाने वाले लोगों की तुलना में अधिक बार नाश्ता भी छोड़ दिया था। डॉक्टरों ने निष्कर्ष निकाला कि देर से खाना वजन कम करने में बाधा पैदा कर सकता है। उन्होंने ये भी माना है कि अगर आप वजन कम करने का अच्छा परिणाम देखना चाहते हैं, तो अपने खाने के समय का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है।

मोटापा घटाने के लिए इस समय करें भोजन
वजन कम करने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए रोजाना 1.30 बजे तक लंच करना अच्छा होता है। इसके अलावा 9.30 बजे तक रात का खाना खा लेना चाहिए।

ये भी पढ़े-


Continue Reading

Uncategorized

रोजाना सुबह इस जूस को पीने से मिलती है डायबिटीज से राहत

Published

on

रोजाना सुबह इस जूस को पीने से मिलती है डायबिटीज से राहत

डायबिटीज या मधुमेह से आज पूरी दुनिया में अधिकतर लोग पीड़ित हैं और भारत में तो मधुमेह रोगियों की संख्या पूरे विश्व में सबसे ज्यादा है। खानपान में कई तरह के परहेज, इन्सुलिन इंजेक्शन और दवाइयों के इस्तेमाल के बावजूद डायबिटीज को कंट्रोल करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। हालांकि कुछ ऐसे घरेलू उपचार हैं जिनसे आप अपने ब्लड ग्लूकोज लेवल को कंट्रोल करके  डायबिटीज को नियंत्रित कर सकते हैं। करेले और लौकी के जूस से होने वाले फायदों के बारे में तो हम सब जानते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि वीट्ग्रास जूस भी डायबिटीज के मरीजों के लिये बहुत फायदेमंद है।

[AdSense-A]

यह भी पढ़ें : मधुमेह की घरेलू आहार चिकित्सा
डाइबटीज रोगियों के लिए रामबाण है इंसुलिन का ये पौधा
डायबिटीज मरीजों के लिए वरदान हैं ये हरी पत्तियां

वीट्ग्रास जूस कई तरह से हमारे स्वास्थ्य के लिये फायदेमंद होता है, यह वजन को कम करने में सहायक तो है ही साथ ही यह पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में भी आराम पहुंचाता है। पनाचे स्किन एंड हेयर क्लिनिक एंड स्लिमिंग सेंटर की डॉ. नम्रता भाराम्बे बताती हैं की वीट्ग्रास जूस में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर होता है इसलिये यह डायबिटीज को नियंत्रित रखने में मदद करता है। फाइबर से आपका पेट काफी लम्बे समय तक भरा रहता है जिससे आपके शरीर के ब्लड ग्लूकोज लेवल में कम परिवर्तन होता है। जर्नल एडवांसेज इन फार्माकोलॉजी साइंस में प्रकाशित एक शोध के अनुसार, वीट्ग्रास पाचक ग्रंथि द्वारा होने वाले इंसुलिन के स्त्राव को बढ़ा देता है। शोध में यह बात भी पता चली की यह जूस आपके एचबीए1सी (HbA1C) लेवल को कम करता है साथ ही हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ा देता है जिस कारण डायबिटीज और उससे होने वाली बीमारियों से बचाव होता है।

[AdSense-A]

शोध के अनुसार, डायबिटीज से पीड़ित अधिकांश मरीजों में कोलेस्ट्रॉल लेवल और सीरम ट्राई ग्लायसेराइड लेवल काफी बढ़ा हुआ होता है जिससे उनमें दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा बहुत ज्यादा रहता है। लेकिन व्हीट ग्रास जूस आपके कोलेस्ट्रॉल लेवल, वीएलडीएल(VLDL) , एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लायसेराइड लेवल को काफी हद तक कम कर देते हैं जिससे डायबिटीज से होने वाली परेशानियों से बचाव होता है।

व्हीटग्रास जूस को कैसे पियें: वैसे तो आजकल बाज़ार में भी रेडीमेड वीट्ग्रास जूस उपलब्ध हैं लेकिन अगर आप इसे घर पर बनाना चाहते हैं, तो आप व्हीट ग्रास को घर में उगा सकते हैं और रोज सुबह इसका ताजा जूस पी सकते हैं। सात दिन पुरानी वीट्ग्रास को अच्छे से धो लें और पानी के साथ ग्राइंड कर लें। इस जूस को किसी मलमल के कपड़े की मदद से छान लें और रोजाना सुबह इसका खाली पेट ही सेवन करें।

 

चित्र स्रोत: Shutterstock


Continue Reading

Uncategorized

अगर आप हेयर कलर लगाते हैं, तो ये जानकारी है आपके लिए!

Published

on

अगर आप हेयर कलर लगाते हैं, तो ये जानकारी है आपके लिए!

बाल कितने वक्त बाद कलर करवाने चाहिए, जानने के लिए पढ़ें।

मेरी उम्र 38 साल है और कुछ बाल ग्रे होने लगे हैं। मुझे कब-कब हेयर कलर करना चाहिए? या टच अप कितने दिन बाद करूं? क्या कोई ऐसा तरीका है जिससे कि बालों पर कलर ज्यादा वक्त तक टिका रहे? कृपया सलाह दें।

इस सवाल के जवाब के लिए मुंबई की सलून ओनर और ब्यूटी एक्सपर्ट शैलजा राओ के इनपुट्स लिए गए हैं।

अगर आप बाल कलर करती हैं तो आपको 4-6 हफ्तों में टचअप करना चाहिए, जितनी देर से दोबारा कलर करेंगी उतना अच्छा रहेगा। जितनी जल्दी आप हेयर कलर करना शुरू करेंगी उतनी जल्दी आपके बालों के ग्रे होने लगेंगे। असल में, नियमित रूप से बालों को कलर करने से बाल डैमेज होने लगते हैं। इसलिए अच्छा है कि आप अगर परमानेंट हेयर कलर करवाती हैं तो दो सेशन के बीच 4-6 महीनों का फर्क रखें। लेकिन आप रूट टच अप हर 4-5 हफ्तों में कर सकती हैं। हालांकि सबसे अच्छा तो ये है कि हेयर कलर को मेंटेन करके रखने की कोशिश की जाए, उसे हल्का होने से बचाया जाए। इससे आपके बाल डैमेज होने से अपने आप ही बच जाएंगे। (इसे भी पढ़ें – बालों की हर समस्या का सिर्फ एक इलाज, भृंगराज तेल!)

हेयर कलर को ज्यादा वक्त तक बनाए रखने के लिए आप इन टिप्स को अपना सकती हैं:

  • बालों के लिए सही कलर चुनना बहुत जरूरी है। कोशिश करें कि डार्क कलर चुनें। इससे वो हल्का देर से होता है और आपके ग्रे बाल किसी लाइट कलर के मुकाबले देर से दिखना शुरु होंगे।
  • ध्यान रखें कि आपकी स्टाइलिस्ट बालों के रूट पर पहले कलर लगाएं, इससे कलर लंबे वक्त तक बना रहेगा। कलर थोड़े थोड़े बाल लेकर लगाएं, ताकि वो एक या दो हफ्तों में निकल न जाए।
  • बाल कलर करने के 2-3 दिन बाद बालों को शैंपू करें। इससे बालों को एब्जॉर्ब होने का एक्स्ट्रा टाइम मिल जाएगा, और वो लंबे वक्त तक टिकेंगे। कलर्ड बालों के लिए मिलने वाले स्पेशल शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करें। ये न कलर को प्रॉटेक्ट करता है, और बालों को होने वाले केमिकल नुकसान होने से भी बचाता है।
  • धूप से हेयर कलर हल्का होने लगता है, इसलिए धूप में बालों को ढक कर निकले।

चित्र स्रोत – Shutterstock


Continue Reading

Trending