माता-पिता से मुलाकात: क्या करें और क्या नहीं

612

आप सोचते थे कि किसी को प्रोपोस करना मुश्किल काम है? ज़रा रुकिए, उस से भी मुश्किल हो सकता है अगला कदम, माता-पिता से मुलाकात करना।

यदि आपकी अरेंज्ड मैरिज हो रही हो तो यह इतना मुश्किल नहीं। लेकिन लव मैरिज में यह थोडा पेचीदा हो सकता है। लेकिन फ़िक्र न करें, हमारी बेजोड़ टिप्स आपकी मदद ज़रूर करेगे।

क्या करें….

  1. अपनी तैयारी 
    अपने साथी से उसके परिवार के बारें में अच्छे ढंग से पूछताछ करिये। परिवार के लोगों के नाम, उनका व्यवसाय, आप उन्हें क्या कहकर बुलाएं? उनकी पसंद नापसंद। उनके साथ कोई कॉमन रूचि जानने कि कोशिश करिये जिससे आप उनके करीब आ सकें। लेकिन ये सब ज़रूरत से ज़यादा करना ठीक नहीं। कहीं ये सब बनावटी न लगे।

    उनकी विचारधारा कि जानकारी होने से आप ये तय कर पाएंगे कि आपको क्या पहनकर जाना चाहिए और किस तरह कि बातें करनी चाहिए। अपने साथी से उनके सख्त नियमो कि जानकारी लेलें क्यूंकि ऐसा न हो कि वो शराब नहीं पीते हों और आप उनके लिए वाइन कि बोतल उपहार में ले जाएं।oldveda-old-veda-logo-banner-health-lifestyle-ayurveda

  2. उपहार
    उपहार हर किसी को पसंद होते हैं! ज़रूरी नहीं कि कुछ बड़ा गिफ्ट हो। फूल या बच्चो के लिए चोकोलेट या कोई छोटा खिलौना भी अच्छा आईडिया हो सकता है। यदि आप डिनर/लंच के लिए जा रहे हैं तो आप कुछ मिठाई ले जा सकते हैं जैसे कि आइस क्रीम।
  3. अपनी पहचान बनाये रखें
    ऐसा होना सम्भव है कि उन्हें इम्प्रेस करने कि होड़ में आप उनकी हर बात में हाँ में हाँ मिला दें जबकि आप उसमे यकीन न रखते हों। ये सुनकर अच्छा लगा रहा है लेकिन ऐसा न करें तो बेहतर है। आपका साथी आपको ऐसे ही पसंद करता है और यही बात सबसे अहम है। जो आप नहीं हैं वो बनने कि क्रिया में आप परेशानी में ही उलझेंगे।

और पहली मुलाकात में उनके पता पिता आपकी ज़िन्दगी कि हर बात नहीं जान सकते। तो ईमानदारी बरतें, विनम्र रहे और मुस्कराहट न भूलें। मुस्कराहट से दिल जितना आसान होता है।

क्या नहीं करें

  1. शिष्टाचार भूलें
    समय से पहुंचें। देर से आना अच्छा इम्प्रैशन नहीं देता। विनम्र रहे, उनकी सुने और मुस्कुराते रहे। खाना खाते समय दूसरों कि और देख कर उनके तौर तरीके अपना लें। यदि शराब हो तो ध्यान रहे कि एक ड्रिंक से ज़यादा न पियें। खाना परोसने या समेटने में मदद कि पेशकश अवश्य करें। साथ ही, शुरआत में ऐसे विषय पर बात न करें जो विवादस्पद हो सकते हैं जैसे कि राजनीती, पैसा या धर्म। इन् टॉपिक्स पर बात करने के लिए बाकि उम्र पड़ी है।
  2. प्रेम प्रदर्शन पर नियंत्रण
    काफी हिंदुस्तानी परिवार इस सन्दर्भ में पश्चिम देशों कि तरह खुले नहीं होते। तो परिवार के सामने अपने साथी का हाथ पकड़ना या चुम्बन करना गलत कदम साबित हो सकता है।
  3. जल्दबाजी करें
    आप तो यही चाहेंगे कि पहली मिलकत में ही उनके माता पिता आपको पसंद कर लें, लेकिन ये ज़रूरी नहीं। इसलिए उनके दिल में उतरने कि जल्दी न करें। शुरवात में सुखद माहौल में सहज बातचीत ही एक अच्छा संकेत है।
    याद रखें कि आप इस परिवार में नए हैं और एक दूसरे को जानने में वक़्त लगता है। फिलहाल प्यार सिर्फ आप और आपके साथी में है। परिवार को आपसे प्यार कर पाने में अभी वक़्त है। यदि आपका प्यार बरकरार रहेगा तो एक न एक दिन परिवार को आपसे प्यार अवश्य हो जायेगा।

 


SHARE