बवासीर से कम से कम एक दिन में निजात पाएं ….

261933

बवासीर दो प्रकार की होती है-

1. खूनी बवासीर :- अंदर की बवासीर से खून निकलता है इसलिए इसे खूनी बवासीर कहते हैं।
2. बादी-बवासीर :- बाहर की बवासीर में दर्द तो होता है लेकिन उनसे खून नहीं निकलता है इसलिए इसे बादी-बवासीर कहते हैं।

बवासीर रोग होने के कारण :-

  • मलत्याग करते समय में अधिक जोर लगाकर मलत्याग करना।
  • बार-बार जुलाव का सेवन करना।
  • बार-बार दस्त लाने वाली दवाईयों का सेवन करना।
  • उत्तेजक पदार्थों का अधिक सेवन करना।
  • अधिक मिर्च-मसालेदार भोजन का सेवन करना।
  • अधिक कब्ज की समस्या होना।
  • वंशानुगत रोग या यकृत रोग होना।
  • शारीरिक कार्य बिल्कुल न करना।
  • शराब का अधिक मात्रा में सेवन करना।
  • पेचिश रोग कई बार होना।
  • निम्नस्तरीय चिकनाई रहित खुराक लेना।
  • घुड़सवारी करना।
  • गर्भावस्था के समय में अधिक कष्ट होना तथा इस समय में कमर पर अधिक कपड़ें का दबाव रखना।
  • रात के समय में अधिक जागना।
  • मूत्र त्याग करने के लिए अधिक जोर लगना।
Source
Source
  1. मस्से के लिये कई घरेलू ईलाज हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण और आधार भूत बात यह है कि रोगी को 24 घंटे में 4 से 6 लिटर पानी पीने की आदत डालनी चाहिये। ज्यादा पानी पीने से शरीर से विजातीय पदार्थ बाहर निकलते रहेंगे और रोगी को कब्ज नहीं रहेगी जो इस रोग का मूल कारण है।
  2. हरी पत्तेदार सब्जियां,फ़ल और ज्यादा रेशे वाले पदार्थों का सेवन करना जरुरी है।

 अगले पेज पर पढ़िए बवासीर रोग के लिए घरेलु उपचार


1
2
3
4
5
SHARE