सुरक्षित सेक्स: क्या करें और क्या नहीं

2684

सुरक्षित सेक्स, सुनने में ज़रा बोरिंग लगता है। सेक्स तो मजेदार और संतुष्टिजनक होना चाहिए- लेकिन सुरक्षित सेक्स का क्या?यदि आप इस बारे में ज़रा गौर करें की सेक्स संक्रमित रोग या अनचाहे गर्भ के कारण आपको कितनी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

तो सुरक्षित सेक्स सुनिश्चित करना आपको बहुत छोटी कीमत लगेगी।  सेफ सेक्स के बारे में क्या करना चाहिए और क्या नहीं, इस अंक में आगे पढ़िए।

क्या करें…

डबल सुरक्षा

‘डबल सुरक्षा’ से हमारा तात्पर्य है गर्भ निरोधन के 2  तरीके एक साथ इस्तेमाल करना, जैसे की गर्भ निरोधक गोली और कंडोम। अपने आप को और अपने साथी को सेक्स संक्रमित रोगों से बचने का एक विश्वनीय तरीका है कंडोम। एक साल तक सिर्फ कंडोम को गर्भ निरोधन के लिए इस्तमाल करने वाली महिलाओं में से 14 प्रतिशत  गर्भवती हो जाती हैं। तो यदि कंडोम के साथ गर्भ निरोधक गोलियां भी उपयोग में लायी जायें तो दोहरी सुरक्षा संभव हो पाती है।

अपने साथी से बातचीत

यदि आप सुरक्षित सेक्स करना चाहते हैं, तो आपको अपने साथी से खुलकर बात करना ज़रूरी है। कंडोम और गर्भ निरोधन के बारे में बात करना आपको अटपटा ज़रूर लगेगा, लेकिन बीमारी का शिकार हनी या अनचाहे गर्भ की तुलना में थोडा कम अटपटा ही है।
इसके साथ ही अपने साथी के पुराने जीवन के बारे में बात करना भी ज़रूरी है। उनके पहले किसी के साथ शारीरक सम्बन्ध रहे हैं, क्या उन्होंने पहले अपना चेक उप कराया है, और उनके अनुसार गर्भ निरोधन का कौनसा तरीका बेहतर है? कंडोम की ही तरह असल में इस बारे में बात करने में भी कोई शर्म नहीं करनी चाहिए।oldveda-logo-272

STDs  के बारे में ज़रूरी जानकारी हासिल कीजिये…

हो सकता है की अपने सेक्स संक्रमित रोगों के बारे में तरह तरह की कहानिया सुनी हों। जैसे की, यदि कोई व्यक्ति देखने में स्वस्थ है तो उसे संक्रमण नहीं है। गलत। या फिर, सेक्स के बाद जननांग धो लेने से संक्रमण का खतरा नहीं होता। बिलकुल गलत!

तो यदि आपको इस बारे में आधारभूत बातें मालूम हों, तो आपको बेशक सही निर्णय लेने में मदद मिलेगी। ये क्या हैं, कैसे फैलते हैं और इनसे बचाव कैसे संभव है? और यदि सही जानकारी होगी तो आप अपने साथी को कंडोम का उपयोग करने के लिए समझा सकते हैं।
तो STDs के बारे में और पढ़िए।

क्या नहीं करें…

कंडोम सम्बंधित गलतियां…

कंडोम के उपयोग से जुडी कई गलतियां हो सकती हैं। तो इसका सही प्रयोग बेहद ज़रूरी है। इसका सही तरीका ट्राई करने के लिए आप खीरे या केले पर प्रयोग करके देख सकते हैं।
ये भी याद रखिये की एक कंडोम केवल एक बार ही इस्तेमाल होना चाहिए। महिला और पुरुष कंडोम एक साथ उपयोग न करें। प्रयोग से पहले कंडोम के पैकेट पर लिखी एक्सपायरी डेट ठीक से जांच लें। कंडोम उतारते समय सही जगह से पकड़ कर उतारें। ये सिर्फ कुछ बेसिक ज़रूरी बातें ही हैं. और जानकारी के लिए इस विषय पर और पढ़ें।

योनि को अपसेट न करें…

योनि पर साबुन का अधिक इस्तेमाल ऐसी स्थति पैदा कर सकता है जब योनि को संक्रमण से बचने वाला बैक्टीरिया नष्ट हो जाये। और ऐसे में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।
और योनि को टाइट बनाने के लिए लगाये जाने वाले पदार्थ भी ऐसी स्थति पैदा कर सकते हैं.योनि में सेक्स के दौरान सूखापन सही नहीं है।

योनि और गुदा मैथुन के बीच लिंग को साफ़ करना या कंडोम बदलना न भूलें। गुदा से लगने वाला बैक्टीरिया योनि में जाकर संक्रमण का कारण बन सकता है।

संक्रमण होने का कारण सेक्स न करना…

यदि आप या आपके साथी को संक्रमण हो गया है, तो शायद आपको लगेगा की सेक्स करना बंद करना चाहिए। लेकिन आपको ऐसा करने की ज़रूरत नहीं है। यदि आप कंडोम का प्रयोग सही प्रकार से कर रहे हैं तो संक्रमण के फैलने की सम्भावना नहीं है।

बहुत से संक्रमित रोगों का इलाज संभव है। लेकिन फिर भी इलाज के दौरान कंडोम का प्रयोग ज़रूर करें। क्यूंकि संक्रमण के दौरान असुरक्षित सेक्स दुसरे नए संक्रमणों का खतरा पैदा करता है, जैसे की एड्स।

 


SHARE