स्कैबीज़

245

स्कैबीज़, कुटकी से होने वाला खुजली वाला त्वचा का संक्रमण है।

स्कैबीज़ के अंडो और मल से होने वाले एलर्जिक प्रतिक्रिया के कारण आपको दाने या मुंहासे होते हैं।

अच्छी बात यह है कि स्कैबीज़ का इलाज किया जा सकता है!

स्कैबीज़ कैसे पड़ते हैं?

स्कैबीज़ एक-दूसरे के शरीर के नज़दीकी संपर्क में आने से पड़ते हैं, जिसमें सेक्स करना भी शामिल है। इनके लगने का दूसरा तरीका स्कैबीज़ से संक्रमित किसी व्यक्ति के कपड़े, बिस्तरे या फर्नीचर का आदान-प्रदान करना हैं।

भीड़भाड़ वाली जगहें, जैसे कि जेल, नर्सिंग होम और बच्चों की देखभाल करने वाले स्थान स्कैबीज़ संक्रमण फैलने के लिए उपयुक्त स्थान हैं।

यह बात जान लेनी ज़रूरी है कि स्कैबीज़ से संक्रमित व्यक्ति बिना किसी लक्षण दिखे किसी दूसरे व्यक्ति तक इसे फैला सकता है।

 

स्कैबीज़ या चीलरों से आप कैसे बच सकते हैं?

1. जूएं से संक्रमित किसी व्यक्ति के साथ सेक्स न करें।
2. बिस्तरे, कपड़े और आदान-प्रदान की जाने वाली दूसरी वस्तुओं को बहुत गर्म या उबलते पानी में धोएं।

यदि आप किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ बिस्तर या कपड़े आदान-प्रदान करते हैं तो यह ज़रूरी हो जाता है कि आप इन्हें काफी अधिक, 60 डिग्री सेल्सियस. या उससे अधिक गर्म पानी में धोएं। जिन चीजों को धोया नहीं जा सकता, जैसे कि गद्दे या कुशन, उन्हें ड्राईक्लीन करें या कम से कम 72 घंटों तक प्लास्टिक बैग में सील कर दें।
आम तौर पर मानव चमड़ी के संपर्क के बिना स्कैबीज़ दो या तीन दिनों से अधिक जीवित नहीं रह सकते हैं।oldveda-old-veda-logo-banner-health-lifestyle-ayurveda

3. स्कैबीज़ संक्रमण का इलाज कराएं।
यदि आपके परिवार का कोई सदस्य स्कैबीज़ से संक्रमित है तो उसका इलाज कराएं। स्कैबीज़ का संक्रमण व्यक्ति में बिना किसी लक्षण दिखे उनसे दूसरे व्यक्तियों को लग सकता है।

स्कैबीज़ होने के लक्षण क्या हैं?

यदि आप स्कैबीज़ से संक्रमित हैं, तो इसके लक्षण दो से छह हफ्तों में नज़र आने लगेंगे। कभी-कभार संक्रमित होने के चार दिन बाद भी संक्रमण दिखने शुरू हो सकते हैं।

इस दौरान आप अपने साथ रहने वाले व्यक्तियों, यौन-साथियों या किसी दूसरे व्यक्ति को जो आपके नज़दीकी संपर्क में आते हैं है, संक्रमित कर सकते हैं हैं। इसलिए यदि आपको स्कैबीज़ संक्रमण के लक्षण नज़र आते हैं, तो इन लोगों को भी इसकी जानकारी दें जिससे वे भी इसका इलाज करा सकें।

आपको स्कैबीज़ या कुटकी के अंडों या मल से हुए एलर्जिक प्रतिक्रिया के लक्षण नज़र आ सकते हैं। शुरुआत में आपको चमड़ी पर हल्की खुजली हो सकती है असके बाद यह पूरे शरीर पर तेज खुजली का रूप ले सकती है। यह खुजली खासकर रात में या गर्म पानी से नहाने के बाद और अधिक बढ़ जाती है।

आपको इन जगहों पर मंुहासे जैसे खुजली वाले दाने हो सकते हैं:

  • कलाइयों पर
  • उंगलियों के बीच
  • कुहनी
  • बगलों में
  • लिंग पर
  • निप्पल पर
  • स्तनों के नीचे
  • नितम्बों पर
  • गुदा के आस-पास

 

चित्रः  खाज-खुजली (स्कैबीज़)

ध्यान रहे, यदि आपको खाज-खुजली हुई हैं, तो वह दिखाए गए चित्र से बिलकुल अलग भी दिख सकती हैं! यदि आपको कोई शंका है, तो डॉक्टर के पास या क्लीनिक जाएं।

खुजाने से खुजली नहीं मिटती है। इससे केवल आपकी चमड़ी को नुकसान पहुंचता है। यदि आप इसका इलाज नहीं कराते तो इन चीलरों की संख्या बढ़ सकती है।

 

स्कैबीज़़ की जाँच कैसे कराएं ?

इनका पता करने के लिए अपने डाक्टर के पास या नज़दीकी अस्पताल या क्लीनिक में जाएं। वे आपकी त्वचा पर स्कैबीज़़ के विशिष्ट लक्षण की तलाश करेंगें। कभी कभी वे आपके मुहांसे या ददोरों को खुरच कर उसके टुकड़े को सूक्ष्मदर्शी की सहायता से देखेंगें की कहीं वहाँ जुएं, अण्डे या स्कैबीज़़ चीलर तो नहीं है।

 

स्कैबीज़ से छुटकारा कैसे पाएं?

स्कैबीज़ से छुटकारा पाने के लिए तीन तरह के उपाय करने पड़ते हैं: दवाएं, संक्रमित वस्तुओं को धुलना और आपके कपड़ों या बिस्तरों के संपर्क में आए किसी यौन साथी या व्यक्तियों को इसके बारे में बताना।

यदि उपचार के दो से चार हफ्तों के बाद भी आपको खुजली बनी रहती है, नए छिद्र हैं या मुहांसे जैसे दाने हैं, तो आपको फिर से यह उपचार करना पड़ सकता है।

1. स्कैबीज़ का दवाओं से इलाज
साधारण साबुन से धोने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। स्कैबीज़ के इलाज के लिए आम दवा की दुकानों या बिना नुस्खे के मिलने वाली कोई दवा नहीं है। इसलिए यदि आपको स्कैबीज़ होने के लक्षण हैं तो अपने डाक्टर के पास या अस्पताल जाएं।

डाक्टर द्वारा लिखी हुई स्कैबीज़ मारने की दवाएं, लोषन या क्रीम खरीदें। इन दवाओं को अपने शरीर पर लगाने से पहले, नहाकर तौलिए से अच्छी तरह शरीर सुखा लें। अपने पूरे शरीर पर गर्दन से लेकर पंजों तक स्कैबीज़ नाशक दवाएं लगाएं।

यदि आप शिशुओं और बच्चों को ये दवाएं लगा रहे हैं, तो उनके चेहरे, खोपड़ी और गर्दन पर भी दवा लगानी ज़रूरी होती है। बताए गए समय के लिए दवा लगाकर छोड़ दें, उसके बाद पानी से अच्छी तरह धो लें।
2. गर्म पानी से धुलाई
इस उपचार से पहले पहने हुए सभी कपड़ो और बिस्तरों को 60 डिग्री या अधिक तापमान के गर्म पानी में धोएं। यदि आप, अपने कपड़ों को धो नहीं सकते हैं तो उनकी ड्राई क्लीनिंग कराएं या प्लास्टिक बैग में 72 घंटे तक सीलबंद कर दें। ऐसा ही अपने गद्दों और तकियों के साथ भी करें। वरना आप फिर से खाज-खुजली वाले चीलरों (स्कैबीज़) से संक्रमित हो सकते हैं।
आम तौर पर स्कैबीज़, मानव चमड़ी के संपर्क के बिना दो या तीन दिनों  से अधिक जीवित नहीं रह सकते हैं।

3. अपने यौन-साथी को इस बारे में बताना
अपने यौन-साथी (साथियों) या आपके बिस्तरों, कपड़ों या तौलियों का प्रयोग करने वाले दूसरे व्यक्तियों को इसके बारे में बताएं जिससे वे भी इसकी जांच कराकर उपचार कर लें। वरना अनजाने में आपको फिर से खाज-खुजली हो सकती है।

 


SHARE