Connect with us

Health & Fitness

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

Published

on

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए : दोस्तो सबसे पहले साँपो के बारे मे एक महत्वपूर्ण बात आप ये जान लीजिये ! कि अपने देश भारत मे 550 किस्म के साँप है ! जैसे एक cobra है ,viper है ,karit है ! ऐसी 550 किस्म की साँपो की जातियाँ हैं ! इनमे से मुश्किल से 10 साँप है जो जहरीले है सिर्फ 10 ! बाकी सब non poisonous है! इसका मतलब ये हुआ 540 साँप ऐसे है जिनके काटने से आपको कुछ नहीं होगा !! बिलकुल चिंता मत करिए !

लेकिन साँप के काटने का डर इतना है (हाय साँप ने काट लिया ) और कि कई बार आदमी heart attack से मर जाता है !जहर से नहीं मरता cardiac arrest से मर जाता है ! तो डर इतना है मन मे ! तो ये डर निकलना चाहिए !

वो डर कैसे निकलेगा ????

जब आपको ये पता होगा कि 550 तरह के साँप है उनमे से सिर्फ 10 साँप जहरीले हैं ! जिनके काटने से कोई मरता है ! इनमे से जो सबसे जहरीला साँप है उसका नाम है !

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

russell viper ! उसके बाद है karit इसके बाद है viper और एक है cobra ! king cobra जिसको आप कहते है काला नाग !! ये 4 तो बहुत ही खतरनाक और जहरीले है इनमे से किसी ने काट लिया तो 99 % chances है कि death होगी !

लेकिन अगर आप थोड़ी होशियारी दिखाये तो आप रोगी को बचा सकते हैं

होशियारी क्या दिखनी है ???

आपने देखा होगा साँप जब भी काटता है तो उसके दो दाँत है जिनमे जहर है जो शरीर के मास के अंदर घुस जाते हैं ! और खून मे वो अपना जहर छोड़ देता है ! तो फिर ये जहर ऊपर की तरफ जाता है ! मान लीजिये हाथ पर साँप ने काट लिया तो फिर जहर दिल की तरफ जाएगा उसके बाद पूरे शरीर मे पहुंचेगा ! ऐसे ही अगर पैर पर काट लिया तो फिर ऊपर की और heart तक जाएगा और फिर पूरे शरीर मे पहुंचेगा ! कहीं भी काटेगा तो दिल तक जाएगा ! और पूरे मे खून मे पूरे शरीर मे उसे पहुँचने मे 3 घंटे लगेंगे !

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

मतलब ये है कि रोगी 3 घंटे तक तो नहीं ही मरेगा ! जब पूरे दिमाग के एक एक हिस्से मे बाकी सब जगह पर जहर पहुँच जाएगा तभी उसकी death होगी otherwise नहीं होगी ! तो 3 घंटे का time है रोगी को बचाने का और उस तीन घंटे मे अगर आप कुछ कर ले तो बहुत अच्छा है !

क्या कर सकते हैं ?? ???

 एक medicine आप चाहें तो हमेशा अपने घर मे रख सकते हैं बहुत सस्ती है homeopathy मे आती है ! उसका नाम है NAJA (N A J A ) ! homeopathy medicine है किसी भी homeopathy shop मे आपको मिल जाएगी ! और इसकी potency है 200 ! आप दुकान पर जाकर कहें NAJA 200 देदो ! तो दुकानदार आपको दे देगा ! ये 5 मिलीलीटर आप घर मे खरीद कर रख लीजिएगा 100 लोगो की जान इससे बच जाएगी ! और इसकी कीमत सिर्फ 50 रुपए है ! इसकी बोतल भी आती है 100 मिलीग्राम की 150 से 200 रुपए की उससे आप कम से कम 10000 लोगो की जान बचा सकते हैं जिनको साँप ने काटा है !

और ये जो medicine है NAJA ये दुनिया के सबसे खतरनाक साँप का ही poison है जिसको कहते है क्रैक ! इस साँप का poison दुनिया मे सबसे खराब माना जाता है ! इसके बारे मे कहते है अगर इसने किसी को काटा तो उसे भगवान ही बचा सकता है ! medicine भी वहाँ काम नहीं करती उसी का ये poison है लेकिन delusion form मे है तो घबराने की कोई बात नहीं ! आयुर्वेद का सिद्धांत आप जानते है लोहा लोहे को काटता है तो जब जहर चला जाता है शरीर के अंदर तो दूसरे साँप का जहर ही काम आता है !

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

तो ये NAJA 200 आप घर मे रख लीजिये !अब देनी कैसे है रोगी को वो आप जान लीजिये !

1 बूंद उसकी जीभ पर रखे और 10 मिनट बाद फिर 1 बूंद रखे और फिर 10 मिनट बाद 1 बूंद रखे !! 3 बार डाल के छोड़ दीजिये !बस इतना काफी है !

MUST READ : कैलाश पर्वत पर बनी परछाई में दिखी भगवान शिव की आकृति, Social Media पर हुई वायरल

और कि ये दवा रोगी की जिंदगी को हमेशा हमेशा के लिए बचा लेगी ! और साँप काटने के एलोपेथी मे जो injection है वो आम अस्तप्तालों मे नहीं मिल पाते ! डाक्टर आपको कहेगा इस अस्तपाताल मे ले जाओ उसमे ले जाओ आदि आदि !!

और जो ये एलोपेथी वालो के पास injection है इसकी कीमत 10 से 15 हजार रुपए है ! और अगर मिल जाएँ तो डाक्टर एक साथ 8 से -10 injection ठोक देता है ! कभी कभी 15 तक ठोक देता है मतलब लाख-डेड लाख तो आपका एक बार मे साफ !! और यहाँ सिर्फ 10 रुपए की medicine से आप उसकी जान बचा सकते हैं !

और  injection जितना effective है मैं इस दवा(NAJA) की गारंटी लेता हूँ ये दवा एलोपेथी के injection से 100 गुना (times) ज्यादा effective है !

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

साँप के काटने का इलाज जरूर पढ़ें, पता नहीं कब आपके काम आ जाए

तो अंत आप याद रखिए घर मे किसी को साँप काटे और अगर दवा(NAJA) घर मे न हो ! फटाफट कहीं से injection लेकर first aid (प्राथमिक सहायता) के लिए आप injection वाला उपाय शुरू करे ! और अगर दवा है तो फटाफट पहले दवा पिला दे और उधर से injection वाला उपचार भी करते रहे !

दवा injection वाले उपचार से ज्यादा जरूरी है !!

________________________________

तो ये जानकारी आप हमेशा याद रखे पता नहीं कब काम आ जाए हो सकता है आपके ही जीवन मे काम आ जाए ! या पड़ोसी के जीवन मे या किसी रिश्तेदार के काम आ जाए! तो first aid के लिए injection की सुई काटने वाला तरीका और ये NAJA 200 hoeopathy दवा ! 10 – 10 मिनट बाद 1 – 1 बूंद तीन बार

रोगी की जान बचा सकती है !!

Source : Dolphinpost


Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Diet

मासानुसार गर्भिणी परिचर्या,प्रथम मास से नवम मास तक

Published

on

हर मास में गर्भ में शिशु के शरीर की वृधि होती है अत: विकासक्रम के अनुसार हर महीने गर्भिणी को कुछ विशेष आहार लेना चाहए | प्रथम मास में-

प्रथम मास में गो दुग्ध,घी,मक्खन का सेवन करे. मीठी और ठन्डे आहार का सेवन करे. : Sweet, cold and liquid diet, Medicated milk, Madhuyashti, madhuka puspa with butter, honey and sweetened milk

दुसरे मास में – : काकोली ओषधि का गो दूध के साथ सेवन करे

Milk medicated with madhura rasa (sweet taste) drugs, Sweetened milk treated with kakoli

तीसरे मास में – मधु,घी,ढूध का सेवन करे. सस्ती चावल की ढूध के खीर बनाकर सेवन करे साथ ही खिचड़ी का सेवन करे.

Milk with honey and ghrita, Milk with honey and ghrita

 

चतुर्थ मास में : ढूध, मक्खन(25ग्राम) का सेवन करे साथ सस्ठी चावल का ओधन ले.

Milk with butter, Cooked sasti rice with curd, dainty and pleasant food mixed with milk and butter, Milk with one tola (12gm) of butter, Medicated cooked rice

 

पंचम मास में : ढूध घी सस्ठी चावल का पानी ढूध के साथ,ढूध से निकले गए मक्खन का प्रयोग.

Ghrita prepared with butter extracted from milk, Cooked shastika rice with milk, meat of wild animals along with dainty food mixed with milk and ghrita

 

छठा मास में – : मधुर वर्ग की ओषधि और घी ढूध, मीठी दही, गोखरू से सिद्ध घी और यवागू, इस मास में बुद्धि के विकास के लिए बादाम, ब्राह्मी, शंख पुष्पि का सेवन करे

Ghrita prepared from milk medicated with madhura (sweet) drugs, Ghrita or rice gruel medicated with gokshura

सप्तम मास में- : मधुर ओषध के साथ घी ढूध का पवन करे. प्रधक परनी से सिद्ध घी का सेवन, मीठे घी का सेवन करे,

Ghrita medicated with prithakaparnyadi group of drugs.

 

अठमा मास में – ढूध घी का सेवन. अनुवासन, अस्थापन वस्ति का प्रयोग.

Kshira Yawagu mixed with ghrita, Asthapana basti with decoction of badari mixed with bala,atibala satapuspa,patala etc.,honey and ghrita. Asthapan is followed by Anuvasana basti of oil medicated with milk madhura drugs

नवम  मास में – : इन महीने  में चावल को ६ गुना दूध व ६ गुना पानी में पकाकर घी दाल के पाचनशक्ति के अनुसार सुबह-शाम खाये अथवा शाम के भोजन में दूध-दलियें में घी डालकर खाये | शाम का भोजन तरल रूप में लेना जरूरी है |

Anuvasana basti with oil prepared with drugs of Madhura (sweet) group, vaginal tampon of this oil, Unctuous gruels and meat-soup of wild animals up to the period of delivery

 

पंचामृत : ९ महीने नियमित रूप से प्रकृति व पाचनशक्ति के अनुसार पंचामृत ले |
पंचामृत बनाने की विधि : १ चम्मच ताजा दही, ७ चम्मच दूध, २ चम्मच शहद, १ चम्मच घी व १ चम्मच मिश्री को मिला लें | इसमें १ चुटकी केसर भी मिलाना हितावह है |
गुण : यह शारीरिक शक्ति, स्फूर्ति, स्मरणशक्ति व कांति को बढ़ाता है तथा ह्रदय, मस्तिष्क आदि अवयवों को पोषण देता है | यह तीनों दोषों को संतुलित करता है व गर्भिणी अवस्था में होनेवाली उलटी को कम करता है |


Continue Reading

Diet & Fitness

आखिर आयुर्वेद और वात, पित व कफ क्या है?

Published

on

आयुर्वेद क्या है ?

हिताहितं सुखं दुःखमायुस्तस्य हिताहितम्।

मानं च तच्च यत्रोक्तमायुर्वेदः स उच्यते॥

जिसमे आयु के हिताहित का ज्ञान और उसका योग मालूम हो उसको आयुर्वेद कहते है .

जिसमे आयु का हित- अहित, रोग का निदान और शमन हो , उसको लोग आयुर्वेद कहते है

आयुर्वेद की आवश्यकता ?

जो आयुर्वेद और धर्मशास्त्र की युक्तियो के अनुसार चलते है उनको रोग नहीं होते है और उनके पुण्य और आयु में वृधि होती है चिकित्सा करने से कही धन की प्राप्ति होती है तो कही मित्रता होती है कही कर्म होता है तो कही यश मिलता है. और कही किर्या करने से अभ्यास बढ़ता है किन्तु वेधक शिक्षा कभी व्यर्थ नहीं जाती है.

दोष क्या ?

है आयुर्वेद में तीन दोष होते है वात,पित्त और कफ. धातु और मल इन तीनो दोषों से दूषित होते है इसलिए इनको दोष कहते है यहाँ दोष को धारण करते है इसलिए इनको धातु भी कहते है महान आयुर्वेदाचार्य वाग्भट के अनुसार – वात ,पित्त और कफ दूषित होने से देह(Body) का नाश करते है तथा शुद्ध होने पर शरीर को धारण करते है.

वात के प्रकार और रहने व रहने के स्थान ?

  • उदान वायु –ये कंठ में रहती है.
  • प्राण वायु –ये दिल में में रहती है.
  • समान वायु – ये नाभि में रहती है.
  • अपान वायु – ये मलाशय में रहती है.
  • व्यान वायु –ये समस्त शरीर में व्याप्त रहती है .

पित के प्रकार और रहने व रहने के स्थान ?

  • पाचक पित्त – ये अमाशय में रहता है.
  • रंजक पित्त – ये लीवर में रहता है.
  •  साधक पित – ये दिल में रहता है.
  • आलोचक पित –ये आँखों में रहता है.
  • भ्राजक पित – ये सारे शरीर और आँखों में रहता है.

 

कफ के प्रकार और रहने व रहने के स्थान ?

  • क्लेदक काफ – ये पेट में रहता है.
  • अवलम्बक कफ – ये दिल में रहता है.
  • रसन कफ – ये कंठ में रहता है.
  • स्नेहन कफ ­– ये सिर में रहता है.
  • श्लेष्मक कफ – ये जोड़ो में रहता है.

 

धातु क्या है ?

  • रस
  • रक्त
  • मॉस
  • मेद
  • अस्थि
  • मज्जा
  • शुक्र ये सात धातुये होती है यहाँ मनुष्य के शरीर में स्वयं रहकर देह को धारण करती है,


Continue Reading

Health & Fitness

यौन शक्ति बढ़ाने के लिए सहजन के फूल का सेवन करें..!!!

Published

on

By

 सब्जी की दुकान पर या आपने लंबी हरी-हरी सहजन (drumstick) की फलियां तो देखी होंगी, जिसे सुरजने की फली भी या कुछ क्षेत्रों में मुंगने के फली भी कहा जाता है। सहजन की यह फली केवल बढ़ि‍या स्वाद ही नहीं बल्कि सेहत और सौंदर्य के बेहतरीन गुणों से भी भरपूर है। जरूर जानिए सहजन के यह 5 अनमोल लाभ – सहजन  के पौधे में  बहुत गुण होते  है मगर क्या आपको पता है कि इसके फूल के भी बहुत सारे स्वास्थ्यवर्द्धक गुण होते हैं। सहजन  के फूल प्रजनन प्रणाली को उन्नत करने के साथ-साथ शुक्राणु की संख्या को बढ़ाने और स्वस्थ करने में मदद करते हैं। यह नपुसंकता और इरेक्टाइल डिसफंक्शन की बीमारी को ठीक करने में भी सहायता करते हैं।

Source http://onlyayurved.com/how-to-increase-sex-time/sex-power/how-to-improve-sex-power-with-sehjan-hindi/

Source

सहजन कैसे मदद करता है?

सहजन में टेरीगोसपरमीन (terigospermin) नाम का यौगिक (compound) होता है जो शुक्राणुओं को स्वस्थ करने और संख्या को बढ़ाने में मदद करता है। यह यौगिक सेक्स जीवन को बेहतर बनाने में और कामवासना को बढ़ाने में भी मदद करता है।

सहजन का ड्रिंक बनाने की विधि 

सहजन का ड्रिंक  बनाने के लिए कुछ फूल, दूध, इलायची, और चीनी लें। एक गिलास दूध ले और उसमें कुछ सहजन  के फूल डालकर उबालें। फूल को दूध में हिलाते हुए पकायें। कुछ देर तक पकने के बाद उसमें इलायची का पावडर डालें। एक बार अच्छी तरह से उबलने के बाद स्वाद के अनुसार उसमें चीनी डालें। जब यह मिश्रण थोड़ा गाढ़ा हो जाये तो आंच पर से उतार दें। इस मिश्रण को थोड़ा ठंडा करने के बाद पीयें। अगर आप डायट पर हैं तो चीनी की  जगह गुड़ का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। सहजन  पेयजल का सेवन रोजाना करें।


Continue Reading

Trending