Connect with us

Dengue

इस तरह डेंगू से करें खुद का बचाव

Published

on

मच्छरों से फैलने वाले रोग डेंगू, मलेरिया होना अाम है लेकिन अाजकल डेंगू का रोग काफी वायरल हो रहा है। यह संक्रमित बीमारी मच्छरों के काटने से होती है जिसके बाद बुखार अाने लगते है। एेसे में हम कुछ सावधानियां बरत कर इस रोग से बच सकते है।  अाज हम अापको डेंगू के लक्षण,कारण अौर उपचार के बारे में बताएंगे जिनको फॉलो कर अाप अपने अाप को इस रोग से बचा सकते है।
oldveda-old-veda-logo-banner-health-lifestyle-ayurveda1
डेंगू के लक्षण
– शरीर के हिस्सों पर लाल रंग के निशान
– सिरदर्द
– तेज बुखार
– उल्टी अौर दस्त
– शरीर में दर्द
– कई बार नाक से खून निकलना
यह सब लक्षण मच्छर के काटने के 7-8 दिन बाद दिखाई देते है। कई बार यह काफी सामान्य लक्षण होते है जिसको हम नॉर्मल फ्लू समझते है। इन लक्षणों के होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।
डेंगू होने के कारण 
– घरों के अास-पास जमा हुअा पानी
– संक्रमित पानी अौर खाना
डेंगू के उपचार के लिए कुछ जरूरी बातों का रखें ध्यान 
– इससे बचने के लिए अाराम करों अौर लिक्विड लेना चाहिए।
– अपने घर के अास-पास सफाई रखें।
– किसी भी जगह पर पानी खड़ा ना होने दें।
– मच्छरों का खात्मा करने के लिए दवाई छिड़के।
– पीने के पानी को हमेसा किसी चीज से ढक कर रखें।
– खून की कमी को पूरा करने वाले अाहार का सेवन करें।
डेंगू का रामबाण इलाज 
1. गिलोय
गिलोय बॉडी को इंफेक्शन से बचाने में मदद करत है। इसके तने को उबालकर हर्बल ड्रिंक की तरह पीने से डेंगू से छुटकारा मिलता है।
2. पपीते के पत्ते
पपीते के पत्तों का जूस बनाकर कर पीने से डेंगू अौर बॉडी से टॉक्सिन बाहर निकालने में मदद करते हैं।
3. मेथी के पत्ते
यह पत्तियां डेंगू के बुखार को कम करने के लिए सहायक हैं। मेथी की पत्तियों को पानी में मिलाकर उसका जूस पीएं। इसके अलावा, मेथी पाऊडर को भी पानी में मिलाकर पी सकते हैं।
4. गोल्डनसील
इस हर्ब का इस्तेमाल दवाई बनाने के लिए किया जाता है। इस हर्ब में डेंगू बुखार को बहुत तेजी से खत्म कर शरीर में से डेंगू के वायरस को खत्म करने की क्षमता होती है। इसका चूर्ण या जूस पीकर लाभ उठाया जा सकता है।
5. हल्दी
डेंगू बुखार होने पर हल्दी को दूध में मिलाकर पीने से अाराम मिलता है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dengue

डेंगू के लिए घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies For Dengue)

Published

on

डेंगू एडीज मच्छर (Adeej Mosquito) द्वारा फैलने वाली बीमारी है जो कि हाल के समय में तेजी से बढ़ रही है। डेंगू के बारे में सबसे खास बात यह है कि इसके मच्छर दिन के समय काटते हैं तथा यह मच्छर साफ पानी (Clean Water) में पनपते हैं। डेंगू के दौरान रोगी के जोड़ों में तेज दर्द (Pain in Joints) होता है तथा सिर में भी दर्द (Headache) काफी तेज होता है। बड़ों के मुकाबले यह बच्चों में ज्यादा तेजी फैलता है।

डेंगू के दौरान यदि तुरंत उपचार न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है, क्योंकि डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स (Platelates) का स्तर बहुत तेजी से नीचे गिरता है जिससे कई बार अंदरूनी रक्त्स्त्राव (Internal Bleeding) होने की संभावना भी रहती है।

डेंगू से बचाव के लिए कुछ घरेलू उपाय भी हैं जिन्हें अपनाकर डेंगू से बचाव संभव है। आइए आपको भी बताते हैं कि कौन से घरेलू उपाय आपको डेंगू से बचा सकते हैं-

डेंगू के लिए घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies for Dengue)

धनिया पत्ती (Coriander Leaves)

डेंगू के बुखार से राहत के लिए धनिया पत्ती के जूस को टॉनिक के रूप में पिया जा सकता है। यह बुखार को कम करता है।

आंवला (Indian Gooseberry)

आंवला में विटामिन सी की उच्च मात्रा होती है जिससे कि शरीर में एब्जॉर्ब करने की क्षमता बढ़ती है। इससे शरीर ज्यादा लौह तत्व एब्जॉर्ब कर पाता है जो कि डेंगू के बुखार को ठीक करने के लिए जरूरी है।

तुलसी (Basil)

तुलसी के पत्तों को गरम पानी में उबालकर छानकर, रोगी को पीने को दें। तुलसी की यह चाय डेंगू रोगी को बेहद आराम पहुंचाती है। यह चाय दिनभर में तीन से चार बार ली जा सकती है।

पपीते की पत्ती (Papaya Leaves)

पपीते की पत्तियां, डेंगू के बुखाार के लिए सबसे असरकारी दवा कही जाती है। पपीते की पत्तियों में मौजूद पपेन एंजाइम (papain enjymes) शरीर की पाचन शक्ति को ठीक करता है, साथ ही शरीर में प्राटीन को घोलने का काम करता है। डेंगू के उपचार के लिए पपीते की पत्तियों का जूस निकाल कर एक एक चम्मच करके रोगी को दें। इस जूस से प्लेटलेट्स की मात्रा तेजी से बढ़ती है।

बकरी का दूध (Goat Milk)

डेंगू बुखार के लिए एक और बुहत प्रभावशाली दवा है बकरी का दूध। बहुत कम होचुकी प्लेटलेट्स को भी बकरी का दूध तुरंत बढ़ाने की क्षमता रखता है। डेंगू के उपचार के लिए रोगी को बकरी का कच्चा दूध थोड़ा-थोड़ा करके पिलाएं, इससे प्लेटलेट्स बढ़ेंगे और जोड़ों के दर्द में भी आराम मिलेगा।

चिरायता (Chirayta)

चिरायता में बुखार को ठीक करने के गुण होते हैं। डेंगू के बुखार को भी चिरायता के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता है।oldveda-logo-272

धतूरा (Dhatura)

धतूरे की पत्तियों में डेंगू के बुखार को ठीक करने के गुण होते हैं, लेकिन इसकी खुराक 2 डेसीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए।

मेथी के पत्ते (Fenugreek Leaves)

मेथी के पत्ते भी डेंगू के बुखार को ठीक कर सकते हैं। मेथी के पत्तों को पानी में उबालकर हर्बल चाय के रूप में इसका पयोग किया जा सकता है। मेथी से शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे डेंगू के वायरस भी खत्म होते हैं।

अनार और काले अंगूर (Pomegranate and Black Grapes)

डेंगू बुखार में रक्त की कमी को पूरा करने और प्लेटलेट्स के स्तर को बढ़ाने के लिए अनार और काले अंगूर का रस पीना चाहिए।

संतरे का जूस (Orange juice)

विटामिन सी से भरपूर संतरा, पाचन शक्ती को बढ़ावा देता है साथ ही शरीर का इम्यूनिटी भी बढ़ाता है। ऐसे में डेंगू रोगी को जल्द से जल्द स्वस्थ होने के लिए संतरे के रस का सेवन करना चाहिए।


Continue Reading

Dengue

डेंगू का रामबाण इलाज हैं गिलोय, पपीता और मेथी

Published

on

 

डेंगू की बीमारी शहरों में काफी तेजी के साथ अपने पैर पसार रही है। डेंगू का सबसे अच्‍छा इलाज है कि उससे बचाव किया जाए। अगर आपके घर या आस पास कोई डेंगू के रोग से पीडित है तो उसे गिलोय, पपीते और मेथी की पत्‍तियों से ठीक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें  : गिलोय Giloy : औषधीय एवं आयुर्वेदिक गुणों का खजाना

गिलोय, डेंगू के मरीजों में इम्‍यून सिस्‍टम बढ़ाने और पपीते की पत्‍तियां डेंगू के बुखार से आराम दिलाने के काम करती हैं। एक्‍सपर्ट की माने तो खून में प्‍लेटलेंट्स और बुखार को जल्‍द खतम करने के लिये घरेलू उपचार काफी काम आते हैं। आपको इससे अच्छा और सस्ता इलाज डेंगू बुखार को खतम करने का नहीं मिलेगा। आइये जानते हैं इन उपचारों के बारे में –

गिलोय : यह प्रतिरक्षा प्रणाली के निर्माण में सहायक है। बुखार के दौरान गिलोय बेल की डंडी ले कर डंडी के छोटे टुकड़े करें। इन्‍हें 2 गिलास पानी मे उबाले। जब पानी आधा रह जाये तब उसे ठंडा होने पर रोगी को पिलाये। आप पाएंगे कि रोगी के खून में मात्र 45 मिनट बाद ही रेड बल्‍ड सेल्‍स बढ़ना शुरु हो जाएंगी।

पपीते की पत्‍तियां: पपीते की ताजी और छोटी पत्‍तियां शरीर से डेंगू के विशैले जहर को निकालने मे मदद करती हैं। पपीते की ताजी पत्‍तियों को पीस कर उसके रस को रोगी को पिलाने से प्‍लेटलेट्स बढ़ने शुरु हो जाते हैं।

मेथी की पत्‍तियां: रोगी के शरीर का दर्द और बेचैनी दूर करने के लिये मेथी की पत्‍तियां काफी अच्‍छी होती हैं। इससे बुखार का लेवल तथा ब्‍लड प्रेशर का स्‍तर सामान्‍य होता है।


Continue Reading

Trending